Skip to main content

अरस्तु की जीवनी - Arastu Biography In Hindi

अरस्तु की जीवनी - Arastu Biography In Hindi

Arastu biography hindi
Arastu biography hindi

 नाम(Name)          -    अरस्तु(Arastu)

जन्म(Born)          -    384 ईसा पुर्व

मृत्यु(Death)        -    322 ईसा पुर्व

कार्यक्षेत्र(Work)  -   महान दार्शनिक


अरस्तु की जीवनी - Arastu Biography In Hindi

अरस्तु (Arastu) युनान के महान दार्शनिक थे । महान दार्शनिक प्लेटो के शिष्य और सिकंदर महान के गुरू थे । अरस्तु(Arastu) अपने समय के सबसे बुद्धिमान व्यक्ति थे । इन्होनें काव्यशास्त्र , भाषणकला , राजनीति शास्त्र , नीतीशास्त्र , दर्शन , मनोविज्ञान , जीवविज्ञान , भौतिक व रसायन शास्त्र आदि में अपना अहम योगदान दिया ।

जन्म -

महान दार्शनिक अरस्तु (Arastu) का जन्म युनानी बस्ती में स्तैगिरा नामक स्थान पर 384 ईसा पुर्व में हुआ था । अरस्तु (Arastu) का बाल्यकाल मकदुनिया के राजदरबार में व्यतीत हुआ था , क्योंकी उनके पिता चिकत्सक के रूप में सिकंदर महान के दादा के राजदरबार में सदस्य थे ।

अरस्तु (Arastu) बाल्यकाल में उनके माता - पिता का देहांत हो गया था और शेष बाल्यकाल प्रॉक्जेनस् नाम के किसी रिश्तेदार के संरक्षण मे व्यतीत किया ।

शिक्षा -

प्रॉक्जेनस् के संरक्षण में अरस्तु ने अपने जीवन के अठारह वर्ष व्यतीत किये । लगभग 17 वर्ष की आयु मेंं अरस्तु शिक्षा हेतु प्लेटो की अकादमी गये । प्लेटो की अकादमी युनान के मुख्य शहर एथेंन्स् में स्थित थी । अरस्तु 20 वर्षो तक अकादमी में रहे और शिक्षा ग्रहण की ।

प्लेटो और अरस्तु के बीच मध्यम व्यवहार था , क्योंकी अरस्तु को प्लेटो के कई सिद्धांतो में सहमत नजर नही आते  थे। लेकीन प्लेटो अरस्तु को एक महान दार्शनिक स्वीकार करते थे ।

347 ईसा पुर्व में प्लेटो के निधन के बाद अरस्तु को उतराधिकारी के रूप में देखा जा रहा था , लेकिन गुरू - शिष्य के सिद्धांतो के मतभेदों के चलते किसी अन्य को उतराधिकारी बनाया गया ।

प्लेटो की मृत्यु के उपरांत अरस्तु अपने मित्र के निमंत्रण पर एत्रानियस गये , वहा उन्होनें राजा ह्रमियास् की भतीजी से विवाह किया । यह उनका दुसरा विवाह था , इससे पहले इन्होने पिथियस् से विवाह किया था जिसकी मृत्यु हो गयी थी ।

सिकंदर को शिक्षा -

338 ईसा पुर्व में मकदुनिया के राजा फिलिपस् ने अपने पुत्र सिकंदर की शिक्षा हेतु अरस्तु को नियुक्त किया , क्योंकि अरस्तु युनान की सबसे बड़ी अकादमी के स्नातक थे ।
335 ईसा पुर्व में जब सिकंदर के राजा बनने पर अरस्तु वापस एथेंन्स् लौट गये , और उन्होंने अपने सिद्धांतो के प्रचार हेतु स्वंय की अकादमी खोली , जिसका नाम " द लियिसियम " रखा था ।

कार्य -

अरस्तु ने अपने विद्यालय में बड़े ही अध्यवसाय के साथ काम किया । सभी प्रचीन मतों का उसने संग्रह किया । विषयानुक्रम से उनका उल्लेख करते हुए , उन्होनें विद्यार्थियों को समझाने के लिए व्यख्यानों के रूप में पाठ्य ग्रंथो का निर्माण किया ।

उस समय तक जिन विषयों का समुचित विकास नही हो पाया था , उन्हे भी अरस्तु ने ऐसी स्थिति में कर दिया कि आगे आने वाले विद्यार्थी , उसके पद् चिन्ह् पर चलकर समृध्द बना सके ।

अरस्तु का विस्तृत साहित्य इन्ही अंतिम बारह वर्षो का परिणाम है । इन्होंने 200 से ज्यादा पुस्तकें लिखी ।

महान दार्शनिक अरस्तु का निम्नलिखित विषयों में योगदान -

1. काव्यशास्त्र
2. भाषणशास्त्र
3. राजनीति शास्त्र
4. नीतिशास्त्र
5. दर्शन
6. मनोविज्ञान
7. जीवविज्ञान
8. भौतिक विज्ञान
9. रसायन विज्ञान

मृत्यु -

अरस्तु का शिक्षण-कार्य सिकंदर महान की मृत्यु के साथ ही समाप्त हो गया । अरस्तु को मकदुनिया दरबार का संरक्षण प्राप्त था । वे सिकंदर के गुरू के रूप में सम्मानित था । सिकंदर की मृत्यु के बाद अरस्तु पर अधार्मिक होने का आरोप लगाया गया , जिसका दंड विधान प्राणदण्ड होता था । 

अरस्तु अपने मित्र व अनुयायी थियोफैस्टस् को अपनी "अकादमी" का उतराधिकारी बनाकर अपने मातृस्थान चले गये । 322ईसा पुर्व मे 62 वर्ष की आयु में इस महान दार्शनिक ने नश्वर शरीर को त्याग दिया । 

अरस्तु पुस्तक - Arastu hindi book pdf

आप निम्नलिखित पुस्तकें पढ कर महान दार्शनिक अरस्तु के बारे में ज्यादा जानकारी प्राप्त कर सकते है -

अरस्तु के विचार - Arastu Quotes in hindi


1. “क्रांति और अपराध की जनक गरीबी है।” 
                                                -   अरस्तु (Arastu)
2. “आलोचना से बचने का एक ही तरीका है : जीवन में कुछ मत करो, कुछ मत कहो और कुछ मत बनों।”
                                                -  अरस्तु (Arastu)
3. “युवा आसानी से धोखा खाते है क्योंकि वो शीघ्रता से उम्मीद लगाते है।”                        -  अरस्तु (Arastu)

4. “कुछ चीजो को करने से पहले हमें उसे सीखना चाहिये, उन्हें करते-करते ही हम सिख जायेंगे।
                                                -  अरस्तु (Arastu)
5. दोस्त बनना एक जल्दी का काम है लेकिन दोस्ती एक धीमी गति से पकने वाला फल है।    
                                                - अरस्तु (Arastu)
6. एक मात्र स्थिर अवस्था वो है जिसमे सभी इंसान कानून के समक्ष बराबर है।
                                                -  अरस्तु (Arastu)

7. "महान आदमी हमेशा उदास प्रकर्ति के होते है।"
                                                -  अरस्तु (Arastu)
8. "प्रकृति बेकार में कुछ नहीं करती है।"
                                                - अरस्तु (Arastu)
9. "एक दोस्त आपकी दूसरी आत्मा है।"
                                                - अरस्तु (Arastu)
10. " अच्छा व्यवहार सभी गुणों का सार है "
                                                - अरस्तु (Arastu)
                                                

आशा करते है की , आपको हमारा यह आर्टीकल " अरस्तु जीवनी - Arastu biography in hindi " पंसद आया होगा । अगर इसमे में कोई त्रुति है तो Comment करके बताये । 

Comments

Popular posts from this blog

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -नवीन कुमार का जीवन परिचय

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -(Dabbang Delhi ) , ( PKL)




नाम              -         नविन कुमार गोयत 
उपनाम         -          नविन एक्सप्रेस

पेशा            -           कब्बडी (रेडर )
जन्मदिन      -            14  फरवरी 2000

डेब्यू           -         प्रो कब्बडी सीजन 6  (2018 )
ताकत       -          रनिंग हैंड टच

कोच         -           कृष्णा कुमार हूडा 

शारीरिक रूप -

लम्बाई         -  5 फिट 10 इंच 

वजन         -    76 किलोग्राम 

निजी जीवन   - 
जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत ) 

  शिक्षा          -   बी,ए

जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत )  धर्म             -  हिन्दू 
जाति           -  जाट 

विवाह         - नहीं हुआ

Filmyzilla 2020 : South indian Movie , Bollywood Movie , Hollywood Movie , Tv Show |

Filmyzilla 2020 : भारत के उन पायरेटेड वेबसाइटस् में से एक है जो Movie Release होने के तुरंत बाद अपनी वेबसाइटस् पर Latest Movies , South indian dubbed movie , Bollywood Movies , Hollywood Movies , Tv Shows अपनी वेबसाइटस् पर उपलब्ध करवाती है । जिसे आप आसानी से Movie Download कर सकते है ।

अगर आप Filmyzilla 2020 पर Movies या  Tv Show डाउनलोड करने जा रहे है तो कृप्या आप इस पोस्ट को जरूर पढे , क्योंकि इसमें हम आपको Filmyzilla 2020 के बारे में सब कुछ बताने वाले है ।

हम आपको यह भी बताऐंगे की Filmyzilla 2020  से Movie डाउनलोड करना चाहिए या नही , अगर करना चाहिए तो कैसे ?


Filmyzilla 2020 : South indian Movie , Bollywood Movie , Hollywood Movie , Tv Show |
Filmyzilla क्या है 
 Filmyzilla एक पॉपुलर पाइरेटेड वेबसाइट है जो Movie Release के तुरंत बाद उन Movies  को अपनी साइट पर अपलोड करती है । इस वेबसाइट पर Bollywood movies , South indian Movie , Malalayam Movies , Tamil Movie , Hollywood Movie , Tv Show गैर - कानुनी रूप से अपलोड और डाउनलोड किये जाते है ।

यहा से आप South indian Movie 2020 Download कर सक…

जब महाराणा प्रताप ने अकबर को संधि पत्र भेजा (When Maharana Pratap sent the treaty letter to Akbar)

हल्दीघाटी के युद्ध के बाद महाराणा प्रताप अपने परिवार सहित जंगलो में चले गए | उस समय परिस्थितियाँ इतनी खराब हो गयी की महाराणा और उनका परिवार घास की रोटी खाने लगे |


एक दिन महाराणा प्रताप के पुत्र अमर सिंह रोटी खा रहे थे लेकिन तभी एक जंगली ब्याव (जंगली बिल्ली ) उनकी रोटी छिनकर भाग जाती है | भूख के मारे  बालक अमरसिंह रोने लगे यह देखकर राणा प्रताप का ह्रदय करुणा से भर गया | उन्होंने सोचा मैंने अपने पुरे जीवन को इस मातृभूमि के लिए न्योछावर कर दिया लेकिन बदले में मुझे क्या मिला | ये पुत्र -पुत्रिया  दो वक्त की रोटी के लिए तरसते है |

जब महाराणा प्रताप ने अकबर को संधि पत्र भेजा -

 महाराणा प्रताप अकबर को संधि पत्र भेजते है | वो पत्र जब अकबर ने पढ़ा तो उसे भरोसा ही नहीं हुआ | अकबर बड़ा धूर्त था | उसने एक चाल की इस पत्र को वह महाराणा के सबसे बड़े भक्त  पृथ्वीराज सिंह राठौर को दिल्ली  बुलाया | जो हमेशा महाराणा की वीरता का गुणगान करते थे | पृथ्वीराज राठौर बिकारनेर नरेश के छोटे भाई थे |


जब अकबर ने वो पत्र पृथ्वीराज सिंह को दिखाया को उन्हें भरोसा नहीं हुआ और उन्होंने इस पत्र की सच्चाई जानने के लिए महारा…