Skip to main content

करमैती बाई का जीवन परिचय ( Karmaiti Bai Biography In Hindi )

करमैती बाई - 


करमैती बाई भगवान श्री कृष्ण की बहुत बड़ी भक्त थी | मीरा बाई के समान अपने सम्पूर्ण जीवन को कृष्णभक्ति में लगा दिया |

करमैती बाई का जीवन परिचय ( Karmaiti Bai Biography In Hindi )


नश्वर पति-रति त्यागि कृष्णपदसो रति जोरि  ।
सखै जगत फाँस तरकि तिनुका ज्यो  तोरी    ।।



जयपुर के पास खण्डेला नामक स्थान था । वहा शेखावत सरदार राज्य किया करते थे । पण्डित परशुराम यहा के राजपण्डित थे । इन्ही परशुरामजी के यहा सद्गुणी करमैती बाई का जन्म हुआ । करमैती बाई का मन बचपन से ही भगवद्भक्ति मे लगा था । वह निरन्तर श्री कृष्ण के नाम का जाप किया करती थी और एकान्त स्थल मे भगवद् ध्यान लगाया करती थी । करमैती बाई का भगवान श्री कृष्ण के प्रति अथाह प्रेम था । वह भगवान का जाप जाप करते करते रोने लगती थी ।


निर्मल कुल काँथड़ा धन्य धरसा जेहि जाई ।
करि वृंदावन -  वास संत सुख करत बड़ाई ।


अब करमैती बाई की उम्र विवाह योग्य हो चुकी थी । माता-पिता  सुयोग्य वर की तलाश करने लगे लेकीन करमैती बाई को विवाह की बातें नही सुहाती थी । वह लज्जावशं माता के सामने कुछ नही बोल पाती थी । इच्छा न होते हुए भी पिता की इच्छा से करमैती का विवाह हो गया । परन्तु वह अपने आप को पहले ही श्री कृष्ण को समर्पित कर चुकी थी ।

संसार - स्वाद सुख त्याग करि फेरि नही तिनतिन चही ।
कठीनकाल कलयुगमह करमैती रही निःकलंक ।।


उसके ससुराल वाले उसे लेने आ गये । उसे पता चला की उसके ससुराल वाले भगवान को नही मानते । वे वैष्णवो और संतो के विरोधी है । वहा उसे अपने ठाकुरजी की सेवा का मौका नही मिलेगा । यह सब सोच कर वो व्याकुल हो उठी । उसको एक ही रास्ता नजर आ रहा था ।

रात्रि के समय करमैती बाई अकेले ही घर से निकल पड़ी । उसे अब किसी का भय नही रहा । करमैती बाई रात्रि के अंधकार मे चली जा रही थी उसे यह सुधि नही की मैं कौन हुँ और कहा जा रही हुँ ।

दिसि अरू विदिसि पंथ नहि सुझा ।
को मै  चलेऊ  कहा   नहि    बुझा ।।


करमैती की माता ने जब बेटी को घर मे नही पाया तो रोती हुई अपने पति परशुराम के पास जाकर यह दुः सवांद सुनाया । परशुराम को बड़ा दुख हुआ । एक तो पुत्री का स्नेह और दुसरा लोक -  लाज का डर । राजपण्डित होने के कारण परशुराम राजा के पास गये और सारा वृतान्त कह सुनाया । राजा ने सहानुभुति प्रकृट करते हुए चारो ओर अपने घुड़सवार दौड़ाये ।


दो घुड़सवार उस दिशा मे भी गये जिस दिशा मे करमैती जा रही थी । घोड़ो की टाँपो की आवाज सुनायी दी । तब करमैती को समझ मे आ गया की ये उसकी ही तलाश मे आ रहे है । उसने चारो और नजर दौड़ाई कुछ नजर नही आ रहा था सिवाय रेगिस्थान के । पास मे एक मरा हुआ ऊँट पड़ा था । सियारो और गिध्दो ने उसके पेट़ को फाड़ कर सारा माँस बाहर निकाल डाला था । करमैती बाई उस ऊँट के पेट मे जा छिपी । घुड़सवार पास से निकल गये । दुर्गन्ध के मारे वे तो वहा ठहर ही नही पाये ।


तीन दिन तक करमैती ऊँट के पेट मे प्यारे श्याम के ध्यान मे पड़ी रही । चौथे दिन वहा से निकली ।  करमैती ने पहले हरिद्वार पहुँच कर भागीरथी मे स्नान किया । फिर चलते चलते वृँदावन जा पहुची । उस जमाने मे वृँदावन केवल सच्चे वैरागी वैष्णव साधुओ का केन्द्र था।


वृँदावन पहुचकर करमैती मानो आनन्दसागर मे डुब गयी । वह जंगल मे ब्रह्मकुण्ड मे रहने लगी । इधर परशुराम को कही पता नही चला तो ढुंढते ढुंढते वृँदावन पहुचे । परशुराम करमैती से साथ चलने की विनती करने लगे । तो करमैती ने अपने पिता परशुराम से कहा " पिताजी यहा आकर कौन वापस गया है ! फिर मैं तो उस प्रेममय के प्रेमसागर मे खुद को डुबो चुकी हुँ "। अपनी पुत्री की ये ज्ञानपुर्ण बातें सुकर परशुराम वापस घर आ गये ।


करमैती बाई अब वृँदावन के पास एक ब्रह्मकुण्ड नामक स्थान मे रहनी लगी जो सम्पुर्ण जंगल से घिरा हुआ था । वहा पर श्रीकृष्ण की भक्ति मे लीन रहती । करमैती बाई ने अपना शेष जीवन इसी स्थान पर गुँजारा

Comments

Popular posts from this blog

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -नवीन कुमार का जीवन परिचय

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -(Dabbang Delhi ) , ( PKL)




नाम              -         नविन कुमार गोयत 
उपनाम         -          नविन एक्सप्रेस

पेशा            -           कब्बडी (रेडर )
जन्मदिन      -            14  फरवरी 2000

डेब्यू           -         प्रो कब्बडी सीजन 6  (2018 )
ताकत       -          रनिंग हैंड टच

कोच         -           कृष्णा कुमार हूडा 

शारीरिक रूप -

लम्बाई         -  5 फिट 10 इंच 

वजन         -    76 किलोग्राम 

निजी जीवन   - 
जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत ) 

  शिक्षा          -   बी,ए

जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत )  धर्म             -  हिन्दू 
जाति           -  जाट 

विवाह         - नहीं हुआ

अरुण जेटली का जीवन परिचय | Arun Jaitley Biography In Hindi

Arun Jaitley Biography in hindi
अरुण जेटली भारतीय राजनीती के प्रसिद्ध राजनेता थे | 2014 को सत्ता में आयी भारतीय जनता पार्टी की सरकार में वित्त मंत्री रहे थे तथा अपने जीवनकाल में केंद्रीय मंत्री,रक्षा मंत्री  के साथ-साथ अनेक पदों पर आसीन रहे |
एक वकील के राजनेता तक का सफर बहुत ही उतार - चढ़ाव  वाला रहा |



नाम        (Name)   -  अरुण जेटली
जन्मदिन               - 28 दिसम्बर 1952
पिता का नाम       - महाराज किशन जेटली
माता का नाम     -   रतनप्रभा जेटली
पत्नी का नाम      -   संगीता जेटली
संतान                -   रोहन जेटली और सोनाली जेटली
मृत्यु                   -  25 अगस्त 2019



व्यक्तिगत जीवन -

अरुण जेटली जी का जन्म दिल्ली में महाराज किशन व माता रतनप्रभा के घर हुआ | इनके पिता पेशे से वकील थे | इनकी स्कूली शिक्षा दिल्ली के सेंट ज़ेवियर्स स्कूल से की जो उस समय की सबसे प्रसिद्ध स्कूलों में से एक थी | यह बचपन से ही एक होनहार विद्यार्थी के रूप अपनी पहचान बना चुके थे | पढ़ाई के साथ -साथ  खेल में भी इनकी रूचि थी |


 स्कूली शिक्षा पूर्ण करने बाद 1973 इन्होने दिल्ली के श्री राम कॉलेज से कॉमर्स की डीग्री प्राप…

जब महाराणा प्रताप ने अकबर को संधि पत्र भेजा (When Maharana Pratap sent the treaty letter to Akbar)

हल्दीघाटी के युद्ध के बाद महाराणा प्रताप अपने परिवार सहित जंगलो में चले गए | उस समय परिस्थितियाँ इतनी खराब हो गयी की महाराणा और उनका परिवार घास की रोटी खाने लगे |


एक दिन महाराणा प्रताप के पुत्र अमर सिंह रोटी खा रहे थे लेकिन तभी एक जंगली ब्याव (जंगली बिल्ली ) उनकी रोटी छिनकर भाग जाती है | भूख के मारे  बालक अमरसिंह रोने लगे यह देखकर राणा प्रताप का ह्रदय करुणा से भर गया | उन्होंने सोचा मैंने अपने पुरे जीवन को इस मातृभूमि के लिए न्योछावर कर दिया लेकिन बदले में मुझे क्या मिला | ये पुत्र -पुत्रिया  दो वक्त की रोटी के लिए तरसते है |

जब महाराणा प्रताप ने अकबर को संधि पत्र भेजा -

 महाराणा प्रताप अकबर को संधि पत्र भेजते है | वो पत्र जब अकबर ने पढ़ा तो उसे भरोसा ही नहीं हुआ | अकबर बड़ा धूर्त था | उसने एक चाल की इस पत्र को वह महाराणा के सबसे बड़े भक्त  पृथ्वीराज सिंह राठौर को दिल्ली  बुलाया | जो हमेशा महाराणा की वीरता का गुणगान करते थे | पृथ्वीराज राठौर बिकारनेर नरेश के छोटे भाई थे |


जब अकबर ने वो पत्र पृथ्वीराज सिंह को दिखाया को उन्हें भरोसा नहीं हुआ और उन्होंने इस पत्र की सच्चाई जानने के लिए महारा…

अवधूत बाबा शिवानंद जीवन परिचय(Biography of avdhoot baba shivanand )

अवधूत बाबा  शिवानंद भारत के धार्मिक और आध्यांत्मिक गुरु है | इनका एक गैर लाभकारी सगठन "शिवयोग " है | जो मानव समाज को ध्यान और अध्यात्म का पाठ पढ़ाता है | भारत की पौराणिक परंपरा को प्रचार  करना है | भारत के मुकाबले बाहरी देशो के लोग इससे ज्यादा जुड़े हुए है |




अवधूत बाबा शिवानंद जीवन परिचय(avdhoot baba shivanand)
अवधूत शिवानंद जी का जन्म 26 मार्च 1956 में हुआ था | यह मूलतः दिल्ली के रहने वाले है लेकिन इनकी शिक्षा-दीक्षा राजस्थान में ही हुई | बचपन से ही इनका मन अध्यात्म और ईश्वर खोज में था | यह अन्य बालको से अलग थे जो अपना पूरा समय खेल-कूद और अध्ययन में लगाते थे |

बाल्यकाल में उनका संपर्क हिमालय के सिद्ध 108 जगन्नाथ जी से हुआ | जगन्नाथ ने इनको अध्यात्म पथ पर अग्रसर होने के लिए प्रेरित किया | इन्होने अवधूत जी को कई ध्यान और योग विधिया सिखाई | इसके बाद इन्होने अपने शिष्य को इस ज्ञान का प्रसार - प्रचार करने का आदेश दिया |


गुरु आदेश मानकर इन्होने अपना पूरा जीवन ईश्वर को समर्पित कर दिया | इन्होने भारत के धार्मिक स्थलों की यात्रा की और वहा ध्यान-साधना का अभ्यास किया |


शिवयोग की स्थापना …

महारानी लक्ष्मी बाई का जीवन परिचय ( Maharani Laxmi bai in Hindi)

महारानी लक्ष्मी बाई झांसी राज्य की महारानी थी | भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में प्रमुख योगदान दिया था | मात्र 23 वर्ष की अल्प आयु में अंग्रेजो से युद्ध के समय वीरगति को प्राप्त हो गयी थी |





नाम                        - लक्ष्मी बाई 
पिता का नाम         - मोरोपंत 

माता का नाम        - भागीरथी बाई

जन्म                     - 19 नवम्बर 1828 

मृत्यु                     - 18 जून       1858 

पुत्र                      - दामोदर राव , आनंद राव 

पति                      - महाराज गंगाधर राव 🔂

प्रारंभिक जीवन (early life) -  रानी लक्ष्मी बाई का जन्म 19 नवम्बर 1828 में वाराणसी के एक मराठी ब्राह्मण परिवार में हुआ था | इनके पिता का नाम मोरोपंत एवम माता भागीरथी बाई था | इनके पिता मोरोपंत मराठा बाजीराव के सेवा में थे |  इनके बचपन का नाम " मनु " था | 4 वर्ष की आयु में इनकी माता का देहांत हो गया था | माता के देहांत के बाद इनके पिता मोरोपंत ने इनको अपने पास बुला लिया | मनु बाई अपने पिता के साथ दरबार जाती थी | वहा पर उन्होंने शास्त्र और शस्त्र दोनों की शिक्षा प्राप्त  की | पेशवा इनको प्यार से " छबीली…