Skip to main content

गुरू नानकदेव जी के पुत्र श्रीचंद्र मुनि जी की जीवनी - Biography of Guru nanak's Son srichand muni |


श्रीचंद्र मुनि जी उदासीन संप्रदाय के आचार्य थे । श्रीचंद्र मुनि गुरू नानकदेव के पुत्र थे ।  इन्होने "मात्राशास्त्र" की रचना की जो इनकी प्रसिध्द कृति है , इसके अलावा इन्होने वेद , ब्रह्मसुत्र और भगवद्गीता पर भाष्य लिखा ।


गुरू नानकदेव जी के पुत्र श्रीचंद्र मुनि जी की जीवनी - Biography of Guru nanak's Son srichand muni


परम उदासी , असाधारण वैरागी और भगवान के विलक्षण अनुरागी महात्मा श्रीचंद ने आचार्य शंकर की तरह भारतीय संस्कृति और आध्यातम ज्ञान का संरक्षण किया । उन्होने जीवमात्र को भवसागर से पार उतारने के लिए सुगम और अाचारमुलक़ भक्ति का पथ प्रशस्त किया । श्रीचंद ने धर्म की मर्यादा सुरक्षित की , वे जन्मजात योगी थे । उन्होने ज्ञानयोग की साधना की । महात्मा श्रीचंद ने धर्माचरण का शंखनाद किया । इन्होने भारतीय जीवन को वैदिक मर्योदा से सम्पन्न कर सनातन धर्म को गौरण बढाया ।



जन्म और बचपन -


श्री चंद्र जी का जन्म 8 सितंबर 1494 मे तलवण्डी गाँव मे गुरू नानकदेव जी और माता सुलक्खनी के घर हुआ । इस समय नानकदेवजी बत्तीस वर्ष के थे । महात्मा श्री चंद्र जी के जन्म के समय संत नानक जी घर के बाहर बैठकर सत्संग कर रहे थे । उनकी बहन नानकी ने सुचना दी की उनके घर एक तेजस्वी बालक ने जन्म लिया है ।

दुसरे पुत्र लक्ष्मीचंद्र के जन्म के बाद संत नानकदेव जी संन्यास ले लिया और सत्य की खोज मे निकल पड़े । श्री चंद्र पिता के वैराग्य-संस्कार से बहुत प्रभावित हुए । वे अन्य बालको से बहुत कम मिलते थे । दुर से ही निर्लिप्त भाव से उनके खेल देखा करते थे । एकांत मे ही उनका मन लगता था । घर वालो को विश्वास हो गया था श्रीचंद भी पिता की तरह सन्यास ले लेंगे ।


आध्यात्मिक जीवन -


अविनाशी मुनि से संन्यास की दीक्षा ली । दीक्षा लेने के बाद उन्होनें धर्म-प्रचार के लिए भारत के पवित्र तीर्थ स्थलों की यात्रा की । वे ब्रज , काशी और प्रयाग भी गये । कश्मीर मे महात्मा श्री चंद्र जी ने वेद , ब्रह्मसुत्र और भगवद्गीता पर भाष्य लिखा । इन्होनें "मात्राशास्त्र" की रचना की ।


अंतिम समय - 


आचार्य श्री चंद्र बारठ से होते हुए चम्बा आए । भगवती रावी के तट पर वे एकांत साधना करने लगे । एक दिन प्रभात होने से पहले वे रावी के पार चले गये और वन पार्वतीय-प्रदेश मे हमेशा के लिए चले गये । इसके बाद वे कभी नही देखे गये ।


महात्मा श्री चंद्र जी के उपदेश -


गुरू अविनाशी खेंल रचाया ।
अगम - निगम का पंथ बताया ।।

निराश मठ निरन्तर ध्यान ।
निभर्व नगरी दीपक गुरूज्ञान ।।

अकल की बरछी गुणो की कटारी ।
मन को मारि करो असवारि ।।

भाव भोजन अमृत कर पाया ।
भला  बुरा  मन  बसाया ।।

सहज विरागी के विराग ।
माया मोहनी सकल त्याग ।।


Comments

Popular posts from this blog

Filmyzilla 2020 : South indian Movie , Bollywood Movie , Hollywood Movie , Tv Show |

Filmyzilla 2020 : भारत के उन पायरेटेड वेबसाइटस् में से एक है जो Movie Release होने के तुरंत बाद अपनी वेबसाइटस् पर Latest Movies , South indian dubbed movie , Bollywood Movies , Hollywood Movies , Tv Shows अपनी वेबसाइटस् पर उपलब्ध करवाती है । जिसे आप आसानी से Movie Download कर सकते है ।

अगर आप Filmyzilla 2020 पर Movies या  Tv Show डाउनलोड करने जा रहे है तो कृप्या आप इस पोस्ट को जरूर पढे , क्योंकि इसमें हम आपको Filmyzilla 2020 के बारे में सब कुछ बताने वाले है ।

हम आपको यह भी बताऐंगे की Filmyzilla 2020  से Movie डाउनलोड करना चाहिए या नही , अगर करना चाहिए तो कैसे ?


Filmyzilla 2020 : South indian Movie , Bollywood Movie , Hollywood Movie , Tv Show |
Filmyzilla क्या है 
 Filmyzilla एक पॉपुलर पाइरेटेड वेबसाइट है जो Movie Release के तुरंत बाद उन Movies  को अपनी साइट पर अपलोड करती है । इस वेबसाइट पर Bollywood movies , South indian Movie , Malalayam Movies , Tamil Movie , Hollywood Movie , Tv Show गैर - कानुनी रूप से अपलोड और डाउनलोड किये जाते है ।

यहा से आप South indian Movie 2020 Download कर सक…

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -नवीन कुमार का जीवन परिचय

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -(Dabbang Delhi ) , ( PKL)




नाम              -         नविन कुमार गोयत 
उपनाम         -          नविन एक्सप्रेस

पेशा            -           कब्बडी (रेडर )
जन्मदिन      -            14  फरवरी 2000

डेब्यू           -         प्रो कब्बडी सीजन 6  (2018 )
ताकत       -          रनिंग हैंड टच

कोच         -           कृष्णा कुमार हूडा 

शारीरिक रूप -

लम्बाई         -  5 फिट 10 इंच 

वजन         -    76 किलोग्राम 

निजी जीवन   - 
जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत ) 

  शिक्षा          -   बी,ए

जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत )  धर्म             -  हिन्दू 
जाति           -  जाट 

विवाह         - नहीं हुआ

यशस्वी जायसवाल जीवनी - Yashasvi Jaiswal Biography In hindi

Yashasvi Jaiswal - घरेलु क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले सबसे युवा खिलाड़ी यशस्वी जायसवाल अपना घरेलु क्रिकेट मुंबई की तरफ से खेलते है । जायसवाल सलामी बल्लेबाज के तौर पर टीम में अपनी भुमिका निभाते है । यह युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ी आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेलते है ।
यशस्वी जायसवाल को संघर्ष का दुसरा नाम कहे तो कोई हर्ज नही होगा क्योंकी इन्होंने इस मुकाम पर पहुचनें के लिए बहुत संघर्ष और परिश्रम किया है ।
यशस्वी जायसवाल जीवनी - Yashasvi Jaiswal Biography In hindi
नाम(Name)    -     यशस्वी जायसवाल जन्मदिन(Birthday)  - 28 दिसम्बर 2001 पिता(Father)    -     भुपेंद्र कुमार जायसवाल माता(Mother)   -     कंचन जायसवाल प्रशिक्षक(Coach)  -   ज्वाला सिंह टीम(Team)         - मुंबई , राजस्थान रॉयल्स

यशस्वी जायसवाल जीवनी - Yashasvi Jaiswal Biography in hindi क्रिकेटर यशस्वी जायसवाल का जन्म 28 दिसम्बर 2001 को उतरप्रदेश के भदोही जिले के सुरियावां गाँव में हुआ । इनके पिता का नाम भुपेन्द्र कुमार जायसवाल है , जो एक छोटी सी हार्डवेयर दुकान के मालिक है और यशस्वी की माता का नाम कंचन जायसवाल है , जो एक ग…