Skip to main content

महावीर स्वामी का जीवन परिचय और उपदेश ( Biography Of Mahavir Swami and Updesh )

महावीर स्वामी का जीवन परिचय और उपदेश (Biography Of Mahavir Swami )--

महावीर स्वामी विक्रम संवत के पाँच सौ वर्ष पहले के भारत की बहुत बड़ी ऐतिहासिक आवश्यकता थे । इन्होनें सुख-दुख मे बंधे जीव के लिए शाश्वत दिव्य शान्ति और परम् मोक्ष का विधान किया । महावीर स्वामी जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थकर थे । जैन धर्म की स्थापना त्रिषभदेव ने की थी । महावीर स्वामी ने इसके विकास मे अहम योगदान दिया था । इन्होने जैन धर्म को पुर्ण तपोमय बना दिया ।



महावीर स्वामी का प्रारंभिक जीवन --

वैशाली राज्य की सीमा पर गण्डकी नदी के तट पर क्षत्रियकुण्डनपुर नगर के राजा सिध्दार्थ और माता त्रिशला के यहा महावीर स्वामी का जन्म हुआ था । संन्यास से पुर्व इनका नाम वर्धमान था । इनके जन्म से पहले इनकी माता को चौदह विचित्र सपने आये थे ।

चैत्र मास की शुक्ला त्रयोदशी को सोमवार के उपाकाल मे महावीर स्वामी ने शिशु वर्धमान के नामरूप जन्म लिया । शिशु का का रंग तपे सोने के समान था । शान्ति और कान्ति से शरीर शोभित और गठीत था ।

माता-पिता ने बड़ी सावधानी से उनका पालन-पोषण किया । रानी त्रिशला अत्यंत गुणवती व सुंदर थी । सिध्दार्थ और त्रिशला दोनो जैन धर्म के अनुयायी थे । उनके पवित्र संस्कारो का वर्धमान के विकास पर अमिट प्रभाव पडा़ । वर्धमान सौम्य , तेजस्वी और सुलक्षण थे । उनकी बाल्यावस्था वैभव और विलास से परिपुर्ण थी । बचपन से ही उनमे वैराग्य , तप , अनासक्ति और धर्म के भाव बढने लगे । उनमे नित्य प्रति दिव्य गुणो की वृध्दि होने लगी ।


महावीर स्वामी कैव्लय ज्ञान की प्राप्ति 

कुमार वर्धमान आठ वर्ष की अवस्था मे आमल की क्रिड़ा किया करते थे । नगर के बाहर अपने साथियों के साथ जाकर संसार की अनित्यता का परिज्ञान कर मन , वचन और काया पर अधिकार रखा । वे समभाव मे रहते थे । संसार को जीवन-मरण से जलते देख कर उसके उध्दार का रास्ता सोचा शा
न्ति की खोज की । तपोमय जीवन के तेरहवें वर्ष मे जमिय ग्राम नगर के बाहर भगवती त्रिजुवालिका के उतरी पर वैशाख शुक्ल दशमी को शाल वृक्ष के नीचे महावीर को कैवल्य पद प्राप्त हुआ । संसार को तारने की शक्ति पायी और वे तीर्थकर बन गये ।

महावीर स्वामी का अंतिम समय --

महावीर स्वामी ७२ वर्ष की आयु तक जीवित रहे । एक बार श्रावस्ति नदी के मेढीय गाँव मे निवास कर रहे थे , रक्तस्त्राव आरम्भ हो गया , उनका शरीर निर्बल और क्षीण हो गया । कार्तिक अमावस्या की आधी रात को महावीर स्वामी परमगति को प्राप्त हो गये ।

महावीर स्वामी के उपदेश और शिक्षा --

* अपने आप को जीतो ! अपने आपको जीतना ही वास्तव मे दुर्जय है । अपनी आत्मा को दमन करने वाला इस लोक और परलोक मे सुखी रहता है ।

* हे पुरूष , तु ही अपना मित्र है , मित्र बाहर क्यों खोजता है ? हे पुरूष , अपनी आत्मा को ही वश मे करो । ऐसा करने से तु सभी दुखों से मुक्त होगा ।

* सभी प्राणियो को अपनी अपनी आयु प्रिय है । सुख अनुकुल है , दुख प्रतिकुल है , वध अप्रिय है , जीवन प्रिय है । सब जीव दीर्घायु होते है । सबको जीवन प्रिय है ।

* गुणो से मनुष्य साधु होता है , अवगुणो से असाधु ।
सद्गुणो को ग्रहण करो , अवगुणो को त्यागो ।

* जो अपनी ही आत्मा द्वारा अपनी आत्मा को जानकर राग व द्वेष को जानकर कर समभाव रखता है वह पुज्नीय है ।


Comments

Popular posts from this blog

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -नवीन कुमार का जीवन परिचय

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -(Dabbang Delhi ) , ( PKL)




नाम              -         नविन कुमार गोयत 
उपनाम         -          नविन एक्सप्रेस

पेशा            -           कब्बडी (रेडर )
जन्मदिन      -            14  फरवरी 2000

डेब्यू           -         प्रो कब्बडी सीजन 6  (2018 )
ताकत       -          रनिंग हैंड टच

कोच         -           कृष्णा कुमार हूडा 

शारीरिक रूप -

लम्बाई         -  5 फिट 10 इंच 

वजन         -    76 किलोग्राम 

निजी जीवन   - 
जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत ) 

  शिक्षा          -   बी,ए

जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत )  धर्म             -  हिन्दू 
जाति           -  जाट 

विवाह         - नहीं हुआ

अरुण जेटली का जीवन परिचय | Arun Jaitley Biography In Hindi

Arun Jaitley Biography in hindi
अरुण जेटली भारतीय राजनीती के प्रसिद्ध राजनेता थे | 2014 को सत्ता में आयी भारतीय जनता पार्टी की सरकार में वित्त मंत्री रहे थे तथा अपने जीवनकाल में केंद्रीय मंत्री,रक्षा मंत्री  के साथ-साथ अनेक पदों पर आसीन रहे |
एक वकील के राजनेता तक का सफर बहुत ही उतार - चढ़ाव  वाला रहा |



नाम        (Name)   -  अरुण जेटली
जन्मदिन               - 28 दिसम्बर 1952
पिता का नाम       - महाराज किशन जेटली
माता का नाम     -   रतनप्रभा जेटली
पत्नी का नाम      -   संगीता जेटली
संतान                -   रोहन जेटली और सोनाली जेटली
मृत्यु                   -  25 अगस्त 2019



व्यक्तिगत जीवन -

अरुण जेटली जी का जन्म दिल्ली में महाराज किशन व माता रतनप्रभा के घर हुआ | इनके पिता पेशे से वकील थे | इनकी स्कूली शिक्षा दिल्ली के सेंट ज़ेवियर्स स्कूल से की जो उस समय की सबसे प्रसिद्ध स्कूलों में से एक थी | यह बचपन से ही एक होनहार विद्यार्थी के रूप अपनी पहचान बना चुके थे | पढ़ाई के साथ -साथ  खेल में भी इनकी रूचि थी |


 स्कूली शिक्षा पूर्ण करने बाद 1973 इन्होने दिल्ली के श्री राम कॉलेज से कॉमर्स की डीग्री प्राप…

जब महाराणा प्रताप ने अकबर को संधि पत्र भेजा (When Maharana Pratap sent the treaty letter to Akbar)

हल्दीघाटी के युद्ध के बाद महाराणा प्रताप अपने परिवार सहित जंगलो में चले गए | उस समय परिस्थितियाँ इतनी खराब हो गयी की महाराणा और उनका परिवार घास की रोटी खाने लगे |


एक दिन महाराणा प्रताप के पुत्र अमर सिंह रोटी खा रहे थे लेकिन तभी एक जंगली ब्याव (जंगली बिल्ली ) उनकी रोटी छिनकर भाग जाती है | भूख के मारे  बालक अमरसिंह रोने लगे यह देखकर राणा प्रताप का ह्रदय करुणा से भर गया | उन्होंने सोचा मैंने अपने पुरे जीवन को इस मातृभूमि के लिए न्योछावर कर दिया लेकिन बदले में मुझे क्या मिला | ये पुत्र -पुत्रिया  दो वक्त की रोटी के लिए तरसते है |

जब महाराणा प्रताप ने अकबर को संधि पत्र भेजा -

 महाराणा प्रताप अकबर को संधि पत्र भेजते है | वो पत्र जब अकबर ने पढ़ा तो उसे भरोसा ही नहीं हुआ | अकबर बड़ा धूर्त था | उसने एक चाल की इस पत्र को वह महाराणा के सबसे बड़े भक्त  पृथ्वीराज सिंह राठौर को दिल्ली  बुलाया | जो हमेशा महाराणा की वीरता का गुणगान करते थे | पृथ्वीराज राठौर बिकारनेर नरेश के छोटे भाई थे |


जब अकबर ने वो पत्र पृथ्वीराज सिंह को दिखाया को उन्हें भरोसा नहीं हुआ और उन्होंने इस पत्र की सच्चाई जानने के लिए महारा…