Skip to main content

काशी के संत हरिहर बाबा

काशी के संत हरिहर बाबा -

संत हरिहर बाबा राम के परम रसिक महात्मा था , बाबा भगवान राम के परमभक्त थे । इन्होने अपना पुर्ण जीवन काशी की घाटों पर ही गुजारा । इनकी कृपा से असंख्य लोगों ने आध्यात्मिक शांति प्राप्त की । जीवन के अंतिमकाल तक काशी के भगवती भागीरथी मे नाव पर निवास किया । बाबा भक्तो की कतार हमेशा लगी रहती थी , बाबा के भक्तो मे स्वंय काशी स्म्राट , मदन मोहन मालवीय आदि थे । बाबा सिध्द और दुरदर्शी संत थे ।


बाबा हरिहर का जन्म और प्रारंभिक जीवन --


बाबा हरिहर का जन्म बिहार के छपरा जिले के जाफरपुर ग्राम मे एक प्रतिष्ठीत ब्राह्मण परिवार मे हुआ था । इनके बचपन का नाम सेनापति तिवारी था । इनके माता-पिता बड़े पवित्र विचारो के थे । देवयोग से सेनापति की अल्पावस्था मे ही उनके माता - पिता का देहान्त हो गया था । सेनापति का मन सहसा भगवान की ओर लग गया । कुछ समय तक सोनपुर और भागलपुर मे विद्याध्ययन किया । इसी समय इनके छोटे भाई हरिहर का देहान्त हो गया । इस घटना ने सेनापति के जीवन को पुर्ण रूप से बदल दिया । अब इनके मन मे वैराग्य का उदय हो गया , सेनापति भगवान राम की जन्मस्थली अयोध्या गये ।


हरिहर बाबा का आध्यात्मिक जीवन --

सरयु के तट पर रहकर इन्होने कठीन तप का जीवन अपनाया , कठोर से कठोर उपवास व्रत मे संग्लन रहकर वे परमात्मा के चिंतन मे निमग्न हो गये ।
अल्पाहार से संतोष कर लेने का स्वभाव बना दिया ।

 काशी दर्शन की उनकी बड़ी इच्छा थी । वे तप करने के लिए बाबा विश्वनाथ की पवित्र धरती काशी आ गये । काशी आने पर भगवती गंगा मे ही नाव पर निवास करने का नियम बना लिया , इस नियम का पालन इन्होने आजीवन किया । उनकी काशी और गंगा के प्रति भक्ति असाधारण कोटि की थी । काशी मे वे हरिहर भैया के नाम से प्रसिध्द हुए । काशी निवास-काल के दौरान उनका सम्पर्क महात्मा वितारागानन्द से हुआ , महात्मा जी के प्रति बडी़ आस्था रखते थे बाबा हरिहर जी ।


हरिहर बाबा शौंच आदि के लिए गंगा के उस पार जाया करते थे । कड़ी से कडी़ गर्मी , भयानक सर्दी और अपार वर्षा का सामना कर वे अपने नियम का पालन करते रहे । कभी कभी तो नाव के अभाव मे तैर कर गंगा पार चले जाते थे । वे असाधारण हठयोगी थे , वे परमहंस थे । संसार के प्रदार्थ और प्राणियो मे उनकी तनिक भी ममता नही रह गयी थी ।


हरिहर बाबा के चमत्कार --

संत का जीवन दिव्य घटनाओ से सम्पन्न होता है । संत हरिहर बाबा के जीवन मे अनेक दिव्य घटनाओ का होना पाया गया है । एक समय की बात है , बाबा के पैर मे नागफनी का काँटा गड़ गया , वे शान्त रहे पर जब उन्होने सुना की महाराज वीतरागानन्द को भी नागफली का काँटा चुभ गया तो उन्होने कहा की "नागफली का काँटा सबको दुख देता है , उसका नष्ट होना ही उचित है " । लगभग दो दिन के पश्चात गंगा के दोनो किनारो पर नागफली का नामो निशान मिट गया । बाबा वाग्सिध्द महात्मा थे , एक शब्द भी व्यर्थ नही बोलते थे ।



राम नाम मे उनकी बड़ी निष्ठा थी । एक बार हरिहर बाबा शौच निवृत हेतु नाव से गंगा के उस पार जा रहे थे । गंगा का जल बाढ पर था , धारा वेगवती थी । नाव डुबने लगी , केवट ने बड़ी कोशिश की लेकीन कुछ फर्क न पड़ा ।  बाबा ने केवट को यत्न करने से मना कर दिया । बाबा के आदेश से लोग राम नाम जपने लगे । देखते ही देखते नाव डुबने से बच गयी । काठ की नाव डुबने से बच गयी ।


हरिहर बाबा का अंतिम समय --

जीवन के अंतिम दिनो मे वे केवल गंगा जलपान ही करते थे । आषाढ शुक्ल पंचमी शुक्रवार को रात मे साढे ग्यारह बजे इस नश्वर शरीर का परित्याग कर परमधाम की यात्रा की ।


हरिहर बाबा से जुड़ी रोचक बातें --

* आपके बचपन का नाम सेनापति था । आपकी जन्मभुमि बिहार थी

*  बाबा अपने जीवन के अंतिमकाल तक काशी मे निवास किया ।

* इन्होने दिगम्बर वेष में गंगा मे खड़े होकर सुर्य से नेत्र मिलाकर लम्बें समय तक तपस्या की ।

* बाबा भगवान राम के परम भक्त थे । इन्होने अपने भक्तो को राम नाम जाप की शिक्षा दी ।

* वे निष्काम और आत्मज्ञानी संत थे ।

* बाबा के भक्तो की सुची मे बड़े बड़े नाम थे , जिसमे मदन मोहन मालवीय और काशी के महाराज भी थे ।

* हरिहर बाबा शौच के लिए गंगा के उस पार जाया करते थे ।



हरिहर बाबा के अनमोल वचन --

* यदि काशी और गंगाजी के बदले स्वर्ग भी मिले तो मंजूर नही ।

* सन्यांसी को कथनी के अनुूरूप कार्य करना चाहिए ।

* अध्यात्म-पथ के पथिको को विघ्न-बाधाओ से नही घबराना चाहिए ।

* प्राणीमात्र को काशीवास , गंगाजल-सेवन , सत्संग और परमात्मा का भजन करना चाहिए । 

Comments

Popular posts from this blog

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -नवीन कुमार का जीवन परिचय

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -(Dabbang Delhi ) , ( PKL)




नाम              -         नविन कुमार गोयत 
उपनाम         -          नविन एक्सप्रेस

पेशा            -           कब्बडी (रेडर )
जन्मदिन      -            14  फरवरी 2000

डेब्यू           -         प्रो कब्बडी सीजन 6  (2018 )
ताकत       -          रनिंग हैंड टच

कोच         -           कृष्णा कुमार हूडा 

शारीरिक रूप -

लम्बाई         -  5 फिट 10 इंच 

वजन         -    76 किलोग्राम 

निजी जीवन   - 
जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत ) 

  शिक्षा          -   बी,ए

जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत )  धर्म             -  हिन्दू 
जाति           -  जाट 

विवाह         - नहीं हुआ

अरुण जेटली का जीवन परिचय | Arun Jaitley Biography In Hindi

Arun Jaitley Biography in hindi
अरुण जेटली भारतीय राजनीती के प्रसिद्ध राजनेता थे | 2014 को सत्ता में आयी भारतीय जनता पार्टी की सरकार में वित्त मंत्री रहे थे तथा अपने जीवनकाल में केंद्रीय मंत्री,रक्षा मंत्री  के साथ-साथ अनेक पदों पर आसीन रहे |
एक वकील के राजनेता तक का सफर बहुत ही उतार - चढ़ाव  वाला रहा |



नाम        (Name)   -  अरुण जेटली
जन्मदिन               - 28 दिसम्बर 1952
पिता का नाम       - महाराज किशन जेटली
माता का नाम     -   रतनप्रभा जेटली
पत्नी का नाम      -   संगीता जेटली
संतान                -   रोहन जेटली और सोनाली जेटली
मृत्यु                   -  25 अगस्त 2019



व्यक्तिगत जीवन -

अरुण जेटली जी का जन्म दिल्ली में महाराज किशन व माता रतनप्रभा के घर हुआ | इनके पिता पेशे से वकील थे | इनकी स्कूली शिक्षा दिल्ली के सेंट ज़ेवियर्स स्कूल से की जो उस समय की सबसे प्रसिद्ध स्कूलों में से एक थी | यह बचपन से ही एक होनहार विद्यार्थी के रूप अपनी पहचान बना चुके थे | पढ़ाई के साथ -साथ  खेल में भी इनकी रूचि थी |


 स्कूली शिक्षा पूर्ण करने बाद 1973 इन्होने दिल्ली के श्री राम कॉलेज से कॉमर्स की डीग्री प्राप…

जब महाराणा प्रताप ने अकबर को संधि पत्र भेजा (When Maharana Pratap sent the treaty letter to Akbar)

हल्दीघाटी के युद्ध के बाद महाराणा प्रताप अपने परिवार सहित जंगलो में चले गए | उस समय परिस्थितियाँ इतनी खराब हो गयी की महाराणा और उनका परिवार घास की रोटी खाने लगे |


एक दिन महाराणा प्रताप के पुत्र अमर सिंह रोटी खा रहे थे लेकिन तभी एक जंगली ब्याव (जंगली बिल्ली ) उनकी रोटी छिनकर भाग जाती है | भूख के मारे  बालक अमरसिंह रोने लगे यह देखकर राणा प्रताप का ह्रदय करुणा से भर गया | उन्होंने सोचा मैंने अपने पुरे जीवन को इस मातृभूमि के लिए न्योछावर कर दिया लेकिन बदले में मुझे क्या मिला | ये पुत्र -पुत्रिया  दो वक्त की रोटी के लिए तरसते है |

जब महाराणा प्रताप ने अकबर को संधि पत्र भेजा -

 महाराणा प्रताप अकबर को संधि पत्र भेजते है | वो पत्र जब अकबर ने पढ़ा तो उसे भरोसा ही नहीं हुआ | अकबर बड़ा धूर्त था | उसने एक चाल की इस पत्र को वह महाराणा के सबसे बड़े भक्त  पृथ्वीराज सिंह राठौर को दिल्ली  बुलाया | जो हमेशा महाराणा की वीरता का गुणगान करते थे | पृथ्वीराज राठौर बिकारनेर नरेश के छोटे भाई थे |


जब अकबर ने वो पत्र पृथ्वीराज सिंह को दिखाया को उन्हें भरोसा नहीं हुआ और उन्होंने इस पत्र की सच्चाई जानने के लिए महारा…