Skip to main content

Rabindranath Tagore Biography in Hindi - रबीन्द्रनाथ टैगोर जीवन परिचय

रविंद्र नाथ टैगोर का जन्म बंगाल में हुआ था और वे बंगाली थे , फिर भी वे केवल बंगाल और भारत के नहीं वरन सम्पूर्ण विश्व की विभूति थे | जिस प्रकार व्यास , वाल्मीकि , कलिदास , तुलसीदास और कबीर किसी देश या प्रान्त के नहीं सम्पूर्ण विश्व के लिए पूजनीय है  , उसी प्रकार रविंद्रनाथ समस्त मानव जगत की सम्पति है |






नाम                     -      रवींद्रनाथ टैगोर 
जन्मदिन             -      7 मई 1861 
उपाधि                 -     लेखक और चित्रकार 
प्रमुख  रचना      -      गीतांजलि 
पुरस्कार           -     नोबेल पुरस्कार 

मृत्यु                 -   7 अगस्त 1947 


प्रारम्भिक जीवन ( Rabindranath Tagore Early Life)


रविंद्रनाथ नाथ का जन्म कोलकाता के जोड़ासांको मुह्हले में हुआ | उनके पिता का नाम महर्षि देवेन्द्रनाथ ठाकुर था और माता का नाम शारदा देवी | वे अपने पिता के सबसे छोटे पुत्र थे | रविंद्रनाथ बहुत भाग्यशाली थे | उनका जन्म ऐसे परिवार में हुआ जिसमे लक्ष्मी और सरस्वती की बराबर कृपा थी | इनके परिवार में बड़े - बड़े विचारक , तत्वज्ञानी , संगीतज्ञ , कलाकार , विद्वान हो चुके थे | 

रविंद्रनाथ छोटी अवस्था के थे , तभी उनकी माता का देहांत हो गया था | उनका लालन - पालन और देख -भाल घर के दास दसियों द्वारा ही किया गया था | इनकी पढ़ाई के लिए ग्रह शिक्षक नियुक्त किये गए लेकिन इनका मन पढ़ाई में नहीं लगा | स्कूल भी भेजे गए लेकिन वहा से भी भाग निकले | रविंद्रनाथ बचपन से ही स्वतंत्र प्रकृति के थे | रविंद्रनाथ प्रकृति के प्रेमी थे , स्कूल और कॉलेज उनकी अनुकूल नहीं थे | 

बचपन में उन्हें अपने पिता से साथ हिमालय जाने मौका मिला | इस भृमण में इन्होने अपने पिता से कुछ अंग्रेजी , कुछ हिंदी , और कुछ ज्योतिष का ज्ञान मिला | इनके घर में रोजाना सह्त्यिक चर्चा और संगीत चर्चा हुआ करती थी | इसलिए छुटपन से ही इनका मन कला , संगीत , कविताओं के प्रति लगाव हो गया | 

मात्र 11 वर्ष की आयु में इन्होने " सङ्कर शिव संकटहारी " गान गाकर ख्याति अर्जित कर ली थी | निरंतर साहित्यक चर्चा और संगीत चर्चा में प्रतिपालित होने के कारण बचपन से ही कवित्व शक्ति दिखलाई देती थी | 
इन्होने वैष्णव कवियों की कविताए पढ़ कर कितनी ही कविताए रच डाली थी | 

रविंद्रनाथ अपने बड़े भाई के साथ कुछ समय अहमदाबाद रहे थे , वह इन्होने अंग्रेजी साहित्य के बड़े बड़े ग्रंथ पड़े और भाव अवलम्बन कर बांग्ला भाषा में लेख लिखे | 


पहली कविता का प्रकाशन -

मात्र 13 वर्ष की आयु में इनकी प्रथम मुद्रित कविता प्रकाशित हुई थी | "तत्त्व बोधिनी " पत्रिका में " अभिलाषा " नाम की कविता प्रकाशित हुई | 

इसके बाद इनकी कविताए " भारती " नामक पत्रिका में प्रकाशित हुई | इसके बाद " करुणा " नामक उपन्यास छपता रहा | 

यही से उनके साहित्यिक जीवन की शुरुआत हुई | 

शिक्षा -

17 वर्ष की आयु में विद्याध्ययन के लिए इंग्लैंड गए | वहा जाकर पहले स्कूल और फिर लंदन यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया | वह अच्छे अच्छे लोगो के संपर्क में आने का मौका मिला | वही उन्होंने "भरथरी " नामक एक गाथा की रचना की | 

वह उनका मन नहीं लगा और भारत लौट आये | भारत आकर इन्होने " वाल्मीकि प्रतिभा " और " भागना हृदय  " की रचना की | 


शांति निकेतन की स्थापना-

1901 के आस पास इनके मन में अध्यात्म के भाव उमड़ने लगे | इसी को लेकर इन्होने 1901 " नैबेद्य " की रचना की | इसमें प्राचीन भारतीय ऋषि - मुनियो की परम्परा के बारे में बताया हुआ है | इनके मन में एक आश्रम स्थापना का विचार आया |

अतः 1901 में शांति निकेतन की स्थापना की गयी | यह बर्ह्मचर्य आश्रम है जिसमे भारतीय प्राचीन परम्परा की शिक्षा दी जाती है | वर्तमान में यह संस्था " विश्व भारती " के नाम से जानी जाती है |

पत्नी का देहांत(Wife's death)-

रवींद्रनाथ टैगोर जी की पत्नी का देहांत 1902 में हुआ था | इसके 1 के भीतर इनकी मझली पुत्री भी चल बसी | 1903 में अपनी कन्या को वायु परिवर्तन करवाने के लिए अल्मोड़ा गए | 

वही इन्होने " शिशु " नाम का काव्य रचा | 

गीतांजलि की रचना और नोबेल पुरस्कार - 

यह समय इनके अध्यात्म जीवन का मधयपहृ था | इन दिनों आत्मा और ब्रह्म की उपलब्धि की चेष्टा ही इनका प्रधान कार्य था | इनकी कविताए और लेखो का मुख्या लक्षण अध्यात्मिक्तावादी था | 

ऐसी कड़ी में इन्होने 1910 में " गीतांजलि " नामक उपन्यास रचा | इस पुस्तक ने इनकी ख्याति सारे संसार में फैला दी | गीतांजलि प्रकाशित होने के रविंद्रनाथ 3 बार इंग्लैंड गए | 

इसे पढ़कर आयरलैंड के प्रसिद्ध कवी श्री यीट्स इनसे बड़े प्रभावित हुए और बहुत से कवि इनपर मुग्ध हो गए | 

अब रविंद्रनाथ जी की ख्याति यूरोप और अमेरिका में भी फ़ैल गयी | 1913 में इन्हे "नोबेल पुरस्कार " से सम्मानित किया गया | 

नोबेल पुरस्कार पा लेने के बाद कलकत्ता विश्वविद्यालय ने डॉक्टर की उपाधि देकर अपने आप को गौरवान्वित किया | 


देश वापसी पर स्वागत - 

इंग्लैंड से लौटने पर रविंद्र नाथ " शांति निकेतन " पहुंचे | उनको बधाई देने के लिए कलकत्ता से शांति निकेतन से लिए एक स्पेशल ट्रैन से 200 भारतीय और यूरोपियन लोग पहुंचे | 

तब गुरुदेव रविंद्रनाथ टैगोर ने कहा " मेरे साहित्यिक जीवन में देशवासियो द्वारा सदा मेरा विरोध किया गया , आज जब पच्छिम ने मेरी शक्ति स्वीकार कर ली तो देशवासी फुल्ले नहीं समाते , इसलिए आप लोग जो सम्मान का प्याला मेरे लिए लेकर आये है , उसे में केवल छू सकता हु , हृदय से नहीं  पी सकता " 

रविंद्रनाथ टैगोर का स्वर्गवास - 


गुरुदेव रविंद्रनाथ ने जितना लिखा उतना कदाचित किसी दूसरे ने लिखा होगा | परन्तु वे केवल कवी , नाट्यकार या उपन्यास लेखक ही नहीं वरन गायक , अभिनेता , चित्रकार , रचयिता ,दार्श्निक ,पत्रकार और अध्यापक भी थे | 
इन सभी कामो ने उन्हें ख्याति लाभ की थी | अपनी लेखनी से मानव सेवा करने के बाद विश्वकवी ने श्रावणी पूर्णिमा (7 अगस्त 1941 ) को अपनी जीवन लीला समाप्त की | 


भारत के इतिहास में उन्हें वही स्थान प्राप्त है जो प्राचीन महान विचारक और कवियों को प्राप्त है | 







Comments

Popular posts from this blog

Filmyzilla 2020 : South indian Movie , Bollywood Movie , Hollywood Movie , Tv Show |

Filmyzilla 2020 : भारत के उन पायरेटेड वेबसाइटस् में से एक है जो Movie Release होने के तुरंत बाद अपनी वेबसाइटस् पर Latest Movies , South indian dubbed movie , Bollywood Movies , Hollywood Movies , Tv Shows अपनी वेबसाइटस् पर उपलब्ध करवाती है । जिसे आप आसानी से Movie Download कर सकते है ।

अगर आप Filmyzilla 2020 पर Movies या  Tv Show डाउनलोड करने जा रहे है तो कृप्या आप इस पोस्ट को जरूर पढे , क्योंकि इसमें हम आपको Filmyzilla 2020 के बारे में सब कुछ बताने वाले है ।

हम आपको यह भी बताऐंगे की Filmyzilla 2020  से Movie डाउनलोड करना चाहिए या नही , अगर करना चाहिए तो कैसे ?


Filmyzilla 2020 : South indian Movie , Bollywood Movie , Hollywood Movie , Tv Show |
Filmyzilla क्या है 
 Filmyzilla एक पॉपुलर पाइरेटेड वेबसाइट है जो Movie Release के तुरंत बाद उन Movies  को अपनी साइट पर अपलोड करती है । इस वेबसाइट पर Bollywood movies , South indian Movie , Malalayam Movies , Tamil Movie , Hollywood Movie , Tv Show गैर - कानुनी रूप से अपलोड और डाउनलोड किये जाते है ।

यहा से आप South indian Movie 2020 Download कर सक…

यशस्वी जायसवाल जीवनी - Yashasvi Jaiswal Biography In hindi

Yashasvi Jaiswal - घरेलु क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले सबसे युवा खिलाड़ी यशस्वी जायसवाल अपना घरेलु क्रिकेट मुंबई की तरफ से खेलते है । जायसवाल सलामी बल्लेबाज के तौर पर टीम में अपनी भुमिका निभाते है । यह युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ी आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेलते है ।
यशस्वी जायसवाल को संघर्ष का दुसरा नाम कहे तो कोई हर्ज नही होगा क्योंकी इन्होंने इस मुकाम पर पहुचनें के लिए बहुत संघर्ष और परिश्रम किया है ।
यशस्वी जायसवाल जीवनी - Yashasvi Jaiswal Biography In hindi
नाम(Name)    -     यशस्वी जायसवाल जन्मदिन(Birthday)  - 28 दिसम्बर 2001 पिता(Father)    -     भुपेंद्र कुमार जायसवाल माता(Mother)   -     कंचन जायसवाल प्रशिक्षक(Coach)  -   ज्वाला सिंह टीम(Team)         - मुंबई , राजस्थान रॉयल्स

यशस्वी जायसवाल जीवनी - Yashasvi Jaiswal Biography in hindi क्रिकेटर यशस्वी जायसवाल का जन्म 28 दिसम्बर 2001 को उतरप्रदेश के भदोही जिले के सुरियावां गाँव में हुआ । इनके पिता का नाम भुपेन्द्र कुमार जायसवाल है , जो एक छोटी सी हार्डवेयर दुकान के मालिक है और यशस्वी की माता का नाम कंचन जायसवाल है , जो एक ग…

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -नवीन कुमार का जीवन परिचय

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -(Dabbang Delhi ) , ( PKL)




नाम              -         नविन कुमार गोयत 
उपनाम         -          नविन एक्सप्रेस

पेशा            -           कब्बडी (रेडर )
जन्मदिन      -            14  फरवरी 2000

डेब्यू           -         प्रो कब्बडी सीजन 6  (2018 )
ताकत       -          रनिंग हैंड टच

कोच         -           कृष्णा कुमार हूडा 

शारीरिक रूप -

लम्बाई         -  5 फिट 10 इंच 

वजन         -    76 किलोग्राम 

निजी जीवन   - 
जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत ) 

  शिक्षा          -   बी,ए

जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत )  धर्म             -  हिन्दू 
जाति           -  जाट 

विवाह         - नहीं हुआ