Skip to main content

मीरा बाई का जीवन परिचय (Meera bai In Hindi)




मीरा बाई कृष्णा-भक्ति शाखा की प्रमुख कवियत्री थी | एक ऐसी राजकुमारी और महारानी जिसने कृष्णा प्रेम भक्ति में अपना सारा सुख वैभव त्याग दिया | मीरा बाई ने अपने पति के देहांत के बाद अपना पूरा जीवन कृष्ण भक्ति में लगा दिया | मीरा बाई की कविताओं में अपने आप को श्री कृष्ण की प्रियतम बताया है |

ऐसा माना जाता है की मीरा बाई द्वापर युग की राधा का अवतार थी | राजस्थान में मीरा बाई के कई मंदिर स्थित है | पुरे भारत में मीरा बाई को एक महान कृष्ण भक्त के रूप में देखा जाता है |

मीरा बाई ने महिलाओ पर हो रहे अत्याचारों का विरोध अपनी कविताओं के माध्यम से किया | मीरा बाई ने समाज मी फैली कुरीतियों का भी विरोध किया |


मीरा बाई का जीवन परिचय (Meera bai In Hindi)


नाम (Name) -                                 मीरा बाई (MEERA BAI )                                              
जन्मदिन (BIRTHDAY)       -             1504 ईसवी      
जन्मस्थान (BIRTH PLACE)     -                मेड़ता (राजस्थान )
मृत्यु (DEATH)                      -               1546 ईसवी 

पिता का नाम (FATHER'S NAME)           -         राव रतन सिंह राठौड़                                                                                             

मीरा बाई का प्रारम्भिक जीवन (Meera Bai's Early Life) -



मीरा बाई का जन्म राजस्थान के मेड़ता रियासत के राजा रतन सिंह के घर हुआ | मीरा बाई का जन्म 1498  में मेड़ता में हुआ | मेड़ता वर्तमान में राजस्थान के नागौर जिले में स्थित है | मीरा बाई की बचपन से ही कृष्णा भक्ति में रुचि थी | मीरा बाई के देख-रेख उनके दादा राव दूदाजी ने की थी | 


मीरा बाई का विवाह और पति की मृत्यु ( Meera Bai In Hindi


मीरा बाई का विवाह मेवाड़ के प्रसिद्ध शाशक महाराणा संग्राम ( राणा सांगा ) के पुत्र   कुंवर भोजराज से हुआ था | मीरा बाई का विवाह उनकी इच्छा से नहीं हुआ था | मीरा बाई का विवाह  सन 1516 में हुआ था | लेकिन यह विवाह अधिक समय तक नहीं चल सका | 1521 में कुंवर भोजराज की मृत्यु हो जाती है | मीरा बाई पर दुखो का पहाड़ गिर पड़ा | 

पति की मृत्यु के बाद मीरा बाई की कृष्ण भक्ति और गहरी हो गयी | 


उस समय सती प्रथा का बहुत प्रचलन था | मेवाड़ के राजपरिवार ने मीरा बाई को भी कुंवर भोजराज के साथ सती ( अपने पति के लाश के साथ जीवित अग्नि में प्रवेश करना ) करने का प्रयास किया लेकिन मीरा बाई ने मना कर दिया | इसके बाद मेवाड़ के राजपरिवार द्वारा मीरा बाई को कई बार मरने का प्रयास किया गया लेकिन मीरा बाई हर बार श्री कृष्ण की कृपा के बच्च जाती थी | 

एक बार मीरा बाई को जहर पिलाया गया | राजस्थान में एक प्रसिद्ध दोहा है 

"वा मीरा मीर की , वा विष रा प्याला पि गयी,थू पिए तो परी मरे

मीरा बाई का पूर्ण वैराग्य (Meera Bai's absolute quietness)-


पति की मृत्यु के बाद मेवाड़ के राजपरिवार द्वारा उन्हें बार बार परेशान किया जाने लगा | मीरा बाई कृष्ण मंदिर में जाकर नाचती - गाती | मीरा ने पूर्ण वैराग्य अपना लिया यह बात राजपरिवार को अच्छी नहीं लगी उनका मानना था की इससे मेवाड़ राजवंश की मर्यादा घटेगी | 

मीरा बाई ने मेवाड़ त्याग दिया और वापस मेड़ता आ गयी लेकिन कुछ समय रहने के बाद तीर्थ यात्रा पर निकल पड़ी  | उन्होंने श्री कृष्णा के प्रमुख तीर्थ स्थलों की यात्रा की | जिसमे बृज , द्वारका , वृन्दावन आदि तीर्थ स्थलों के दर्शन किये | 

इसी दौरान मीरा बाई रूप गोस्वामी जी से भी मिली थी | मीरा बाई का अधिकतर समय तीर्थ यात्रा , साधु संतो और हिंदी काव्य रचना में ही बीतता था | 

 मीरा बाई का अंतिम समय (Mira Bai's last time) - 


मीरा ने अपना पूरा जीवन कृष्ण भक्ति  को समर्पित कर दिया | ऐसी महान आत्मा पर भारत हमेशा गर्व करता रहेगा | ऐसा कहा जाता है मीरा बाई भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति में सशरीर समाहित हो गयी थी | 

मीरा बाई की मृत्यु कहना गलत होगा क्युकी मीरा बाई शशरीर श्री भगवन की मूर्ति में समाहित हो गयी थी | 







Comments

Popular posts from this blog

Filmyzilla 2020 : South indian Movie , Bollywood Movie , Hollywood Movie , Tv Show |

Filmyzilla 2020 : भारत के उन पायरेटेड वेबसाइटस् में से एक है जो Movie Release होने के तुरंत बाद अपनी वेबसाइटस् पर Latest Movies , South indian dubbed movie , Bollywood Movies , Hollywood Movies , Tv Shows अपनी वेबसाइटस् पर उपलब्ध करवाती है । जिसे आप आसानी से Movie Download कर सकते है ।

अगर आप Filmyzilla 2020 पर Movies या  Tv Show डाउनलोड करने जा रहे है तो कृप्या आप इस पोस्ट को जरूर पढे , क्योंकि इसमें हम आपको Filmyzilla 2020 के बारे में सब कुछ बताने वाले है ।

हम आपको यह भी बताऐंगे की Filmyzilla 2020  से Movie डाउनलोड करना चाहिए या नही , अगर करना चाहिए तो कैसे ?


Filmyzilla 2020 : South indian Movie , Bollywood Movie , Hollywood Movie , Tv Show |
Filmyzilla क्या है 
 Filmyzilla एक पॉपुलर पाइरेटेड वेबसाइट है जो Movie Release के तुरंत बाद उन Movies  को अपनी साइट पर अपलोड करती है । इस वेबसाइट पर Bollywood movies , South indian Movie , Malalayam Movies , Tamil Movie , Hollywood Movie , Tv Show गैर - कानुनी रूप से अपलोड और डाउनलोड किये जाते है ।

यहा से आप South indian Movie 2020 Download कर सक…

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -नवीन कुमार का जीवन परिचय

Navin Kumar Kabaddi Biography In Hindi -(Dabbang Delhi ) , ( PKL)




नाम              -         नविन कुमार गोयत 
उपनाम         -          नविन एक्सप्रेस

पेशा            -           कब्बडी (रेडर )
जन्मदिन      -            14  फरवरी 2000

डेब्यू           -         प्रो कब्बडी सीजन 6  (2018 )
ताकत       -          रनिंग हैंड टच

कोच         -           कृष्णा कुमार हूडा 

शारीरिक रूप -

लम्बाई         -  5 फिट 10 इंच 

वजन         -    76 किलोग्राम 

निजी जीवन   - 
जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत ) 

  शिक्षा          -   बी,ए

जन्म स्थान   - भिवानी हरियाणा ( भारत )  धर्म             -  हिन्दू 
जाति           -  जाट 

विवाह         - नहीं हुआ

यशस्वी जायसवाल जीवनी - Yashasvi Jaiswal Biography In hindi

Yashasvi Jaiswal - घरेलु क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले सबसे युवा खिलाड़ी यशस्वी जायसवाल अपना घरेलु क्रिकेट मुंबई की तरफ से खेलते है । जायसवाल सलामी बल्लेबाज के तौर पर टीम में अपनी भुमिका निभाते है । यह युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ी आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेलते है ।
यशस्वी जायसवाल को संघर्ष का दुसरा नाम कहे तो कोई हर्ज नही होगा क्योंकी इन्होंने इस मुकाम पर पहुचनें के लिए बहुत संघर्ष और परिश्रम किया है ।
यशस्वी जायसवाल जीवनी - Yashasvi Jaiswal Biography In hindi
नाम(Name)    -     यशस्वी जायसवाल जन्मदिन(Birthday)  - 28 दिसम्बर 2001 पिता(Father)    -     भुपेंद्र कुमार जायसवाल माता(Mother)   -     कंचन जायसवाल प्रशिक्षक(Coach)  -   ज्वाला सिंह टीम(Team)         - मुंबई , राजस्थान रॉयल्स

यशस्वी जायसवाल जीवनी - Yashasvi Jaiswal Biography in hindi क्रिकेटर यशस्वी जायसवाल का जन्म 28 दिसम्बर 2001 को उतरप्रदेश के भदोही जिले के सुरियावां गाँव में हुआ । इनके पिता का नाम भुपेन्द्र कुमार जायसवाल है , जो एक छोटी सी हार्डवेयर दुकान के मालिक है और यशस्वी की माता का नाम कंचन जायसवाल है , जो एक ग…